ताजा खबर
14 हजार में करें दक्षिण भारत के इन 7 मंदिरों के दर्शन, जानें IRCTC के सबसे किफायती टूर पैकेज के बारे...   ||    महाकालेश्वर समेत इन 5 मंदिरों के करें सस्ते में दर्शन, जानें IRCTC के इस पैकेज में क्या-क्या है खास   ||    Petrol Diesel Price Today: सस्ता होने के दो महीने बाद यहां महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, जानें ईंधन के नए ...   ||    फ्लोरिडा हाई स्कूल ने 14 जुड़वां जोड़ों और एक ट्रिपल जोड़े के साथ अनोखे ग्रेजुएशन का जश्न मनाया   ||    टेस्ला के शेयरधारकों द्वारा 56 बिलियन डॉलर के वेतन पैकेज को बहाल करने पर एलन मस्क ने डांस के साथ जश्...   ||    भाजपा नेता ने भारत की ईवीएम सुरक्षा का बचाव करते हुए एलन मस्क के ‘कुछ भी हैक किया जा सकता है’ दावे क...   ||    टेक्सास: राउंड रॉक में एक कार्यक्रम में घातक गोलीबारी में दो लोगों की मौत, कई घायल   ||    ज़ेलेंस्की ने यूक्रेन से सैनिकों के बाहर निकलने पर कल रूस के साथ 'शांति वार्ता' की पेशकश की   ||    भीषण गर्मी से 14 हज यात्रियों की मौत, 17 लापता   ||    ‘यह एक बहुत ही अजीब विश्व कप रहा है..’ पाकिस्तान के साथ मुकाबले से पहले आयरलैंड के कोच   ||   

RBI MPC मीटिंग : चुनावी नतीजों के बाद भी नहीं म‍िली राहत, Home Loan की EMI में नहीं हुआ बदलाव

Photo Source :

Posted On:Friday, June 7, 2024

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने शुक्रवार को मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक में बड़ा फैसला लिया है। चुनाव नतीजों के बाद भी आम लोगों को लोन की ईएमआई में कोई राहत नहीं मिली है. इस बैठक में रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया है. यह 6.5 प्रतिशत ही रह गया है. रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने एमपीसी की बैठक में लिए गए फैसलों की घोषणा की. फरवरी 2023 के बाद से रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं हुआ है. इसमें कोई बदलाव नहीं होने से होम लोन समेत अन्य तरह के लोन की ईएमआई में भी कोई बदलाव नहीं हुआ है। आम लोगों का मानना ​​था कि रिजर्व बैंक महंगाई कम करने के लिए रेपो रेट में कटौती कर सकता है. हालांकि, विशेषज्ञों की राय थी कि रिजर्व बैंक रेपो रेट में बदलाव नहीं करेगा. उधर, यूरोपियन सेंट्रल बैंक और बैंक ऑफ कनाडा ने रेपो रेट घटाना शुरू कर दिया है। अमेरिका के सेंट्रल बैंक की बैठक भी होनी है जिसमें बैंक ब्याज दर पर भी फैसला करेगा.

अभी राहत की कोई उम्मीद नहीं है

रेपो रेट में अभी भी राहत की उम्मीद नहीं है. दरअसल वर्तमान में महंगाई दर सरकार द्वारा तय सीमा से ज्यादा है. अप्रैल में खुदरा महंगाई दर 4.83 फीसदी थी. सरकार ने रिजर्व बैंक को महंगाई दर को 2 से 4 फीसदी के बीच लाने का लक्ष्य दिया है. ऐसे में जब तक महंगाई दर इस दायरे में नहीं आती तब तक रेपो रेट में कटौती की उम्मीद कम है। एमपीसी की अगली बैठक सितंबर के पहले सप्ताह में होगी. ऐसे में माना जा रहा है कि रिजर्व बैंक उस वक्त रेपो रेट में थोड़ी कटौती कर सकता है.

रेपो रेट क्या है और इसका आम आदमी पर क्या असर पड़ता है?

रिज़र्व बैंक जिस दर पर बैंकों को ऋण देता है उसे रेपो रेट कहा जाता है। रेपो रेट में बढ़ोतरी का मतलब है कि बैंकों को रिजर्व बैंक से ऊंची दर पर कर्ज मिलेगा. जब बैंकों को महंगे लोन मिलेंगे तो वे ग्राहकों को होम लोन, कार लोन, पर्सनल लोन आदि महंगी ब्याज दरों पर देंगे, जिससे कर्जदारों पर ईएमआई का बोझ बढ़ जाएगा।


इन्दौर और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. indorevocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.