ताजा खबर
देश के तमाम हिस्सों में कांवड़ियों ने किया हंगामा, मारपीट और तोड़फोड़ रोकने में पुलिस भी नाकाम, लगाए...   ||    Ghazipur: अनजान लड़के संग देख भड़क उठा भाई, कुल्हाड़ी से काट डाली बहन की गर्दन, मंजर देख कांप उठी घरवाल...   ||    बजट विवाद के बीच विपक्षी सांसदों ने राज्यसभा से वॉकआउट किया   ||    'चुपचप सुनो...' - विधानसभा में नीतीश कुमार ने खोया आपा,राजद विधायक को चुप रहने की दी हिदायत   ||    काठमांडू के त्रिभुवन अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर विमान दुर्घटनाग्रस्त, 18 मरे और 1 घायल   ||    Breakin News LIVE: काठमांडू एयरपोर्ट पर विमान दुर्घटनाग्रस्त, 13 शव बरामद   ||    चीख-चीख कर रोने लगे थे राहुल द्रविड़, विश्व कप चैंपियन बनने पर टीम का ये जश्न अश्विन को हमेशा याद रह...   ||    Ban on hitting Sixes: छक्के लगाने पर पाबंदी, सिक्स लगाया सिक्स तो बल्लेबाज होगा आउट, हैरान करने वाली...   ||    बिना रन बनाए, विकेट लिए या कैच लिए, फिर भी मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला   ||    ​Manoj Kumar Birthday: इकलौते एक्टर जो सरकार से जीत गए थे केस, शूटिंग के सामान और लाइट उठाने का मिला...   ||   

Success Story Of Champaran Meat : बिहार-नेपाल बॉर्डर पर हांडी में मटन बनते देख आया आइडिया, अब पूरे देश में फैला बिजनेस

Photo Source :

Posted On:Saturday, June 15, 2024

अगर आप नॉनवेज के शौकीन हैं तो आपने चंपारण मीट का नाम तो जरूर सुना होगा। हो सकता है आपने इसे खाया भी हो. आज चम्पारण के मांस विक्रेता हर जगह पाए जाते हैं, लेकिन असली कौन है इसकी पहचान करना मुश्किल है। आपको बता दें कि चंपारण मीट के असली मालिक गोपाल कुमार कुशवाहा हैं. इनका ब्रांड नाम ओल्ड चंपारण मीट हाउस है। बिहार के रहने वाले गोपाल को यह आइडिया बिहार-नेपाल सीमा पर मटन तैयार होता देखकर आया। इसके बाद उन्होंने इसमें थोड़ा बदलाव किया और नए तरीके से लोगों के सामने हांडी में मटन तैयार किया, जिसे उन्होंने अहुना मटन कहा. गोपाल कुशवाहा का यह प्रयोग इतना सफल रहा कि कुछ ही समय में वह पूरे बिहार में मशहूर हो गये. आज उनका कारोबार देश के कई हिस्सों तक फैल चुका है।

नाम के लिए संघर्ष जारी है

आज आपको चम्पारण मीट की दुकानें हर जगह मिल जाएंगी। इससे गोपाल कुशवाहा दुखी हैं. गोपाल कुशवाहा ने कहा कि चंपारण मीट के नाम से ट्रेड मार्क रजिस्टर्ड कराने के बाद भी देशभर में कई जगहों पर उनके नाम का इस्तेमाल किया जा रहा है. इसे लेकर मामला कोर्ट में भी है. कई लोगों पर केस चल रहा है. गोपाल कुशवाह का कहना है कि शुरू में उन्हें ट्रेड मार्क के बारे में कुछ नहीं पता था. जैसे ही उनका मटन पूरे बिहार में मशहूर हो गया और बिहार से बाहर देश के दूसरे राज्यों तक फैल गया, इसके बाद किसी ने उन्हें ट्रेड मार्क के बारे में बताया. गोपाल कुशवाह का कहना है कि शुरू में उन्हें ट्रेड मार्क के बारे में कुछ नहीं पता था. यह यहां कहां उपलब्ध है, कैसे उपलब्ध है आदि। बाद में एक परिचित ने उन्हें दिल्ली के एक वकील का फोन नंबर दिया। फिर शुरू हुआ ट्रेड मार्क लेने का सिलसिला. लेकिन तब तक चंपारण मटन हर जगह फैल चुका था.

एक घटना और छोड़ दी रेलवे की नौकरी

गोपाल कुशवाह पहले रेलवे में नौकरी कर चुके हैं. वह टीटीई के साथ था। एक बार उन्होंने टीटीई को एक यात्री के साथ दुर्व्यवहार करते देखा. उन्होंने टीटीई से थोड़ी दया दिखाने को कहा, लेकिन टीटीई ने उनकी एक न सुनी और उल्टे उन्हें ही डांटना शुरू कर दिया. इससे निराश होकर उन्होंने 2013 में रेलवे की नौकरी छोड़ दी और कैटरिंग का काम शुरू कर दिया।

...और किस्मत बदल गई

बिहार-नेपाल सीमा के पास मोतिहारी में गोपाल कुशवाहा ने हांडी में मटन तैयार होते देखा. ऐसे में उन्होंने इसमें कुछ प्रयोग किए और स्वदेशी तरीके से हांडी में मटन बनाना शुरू किया और इसका नाम अहुना मटन रखा। आहु का अर्थ है मिट्टी का बर्तन। अब इसे हांडी मटन के नाम से भी जाना जाता है. वह इसे कैटरिंग में तैयार करता था. ऐसे में लोगों को मटन के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी। इसी बीच शादी का ऑर्डर आ गया. शादी में करीब 500 मेहमान शामिल होने वाले थे. इस शादी में गोपाल कुशवाह को अहुना मटन बनाने का ऑर्डर भी मिला. इसके बाद उनकी गाड़ी चल पड़ी और बहुना मटन बिहार से लेकर दूसरे राज्यों तक फैल गया. गोपाल कुशवाहा के देश के कई हिस्सों में चंपारण मीट के नाम से आउटलेट हैं. इसमें बिहार के पटना और समस्तीपुर के अलावा बनारस, नोएडा, चंडीगढ़ आदि शहर शामिल हैं.

मसालों की खुशबू भी फैलाएं

गोपाल कुशवाह बीएमएच नाम से मसाले भी बेचते हैं। जिसमें किचन मसाला, मटन मसाला, अहुना हांडी मटन मसाला, गरम मसाला, पनीर मसाला आदि शामिल हैं। गोपाल कहते हैं कि अगर आप अहुना मटन बना रहे हैं तो आपको इस मसाले के अलावा किसी और मसाले की जरूरत नहीं है. - एक हांडी या किसी बर्तन में तेल डालें और उसमें अदरक-लहसुन का पेस्ट डालें. इनके मसालों में मिर्च और हल्दी समेत अन्य मसाले मौजूद होते हैं. यह मसाला केवल फ्लिपकार्ट और अमेज़न पर उपलब्ध है।

20 हजार से 1 करोड़ रुपये तक का सफर

ओल्ड चंपारण मीट हाउस की शुरुआत गोपाल कुशवाहा ने करीब 20-25 हजार रुपये से की थी. उस वक्त उनके साथ करीब 3-4 लोग ही थे. साल 2016 में उन्होंने एक कंपनी बनाई और ब्रांड रजिस्टर कराया. साथ ही ट्रेड मार्क के लिए भी आवेदन किया जो उन्हें बाद में मिल गया। आज उनकी टीम में 10 से 15 लोग हैं और सालाना टर्नओवर करीब 1 करोड़ रुपये है।


इन्दौर और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. indorevocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.