ताजा खबर
14 हजार में करें दक्षिण भारत के इन 7 मंदिरों के दर्शन, जानें IRCTC के सबसे किफायती टूर पैकेज के बारे...   ||    महाकालेश्वर समेत इन 5 मंदिरों के करें सस्ते में दर्शन, जानें IRCTC के इस पैकेज में क्या-क्या है खास   ||    Petrol Diesel Price Today: सस्ता होने के दो महीने बाद यहां महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, जानें ईंधन के नए ...   ||    फ्लोरिडा हाई स्कूल ने 14 जुड़वां जोड़ों और एक ट्रिपल जोड़े के साथ अनोखे ग्रेजुएशन का जश्न मनाया   ||    टेस्ला के शेयरधारकों द्वारा 56 बिलियन डॉलर के वेतन पैकेज को बहाल करने पर एलन मस्क ने डांस के साथ जश्...   ||    भाजपा नेता ने भारत की ईवीएम सुरक्षा का बचाव करते हुए एलन मस्क के ‘कुछ भी हैक किया जा सकता है’ दावे क...   ||    टेक्सास: राउंड रॉक में एक कार्यक्रम में घातक गोलीबारी में दो लोगों की मौत, कई घायल   ||    ज़ेलेंस्की ने यूक्रेन से सैनिकों के बाहर निकलने पर कल रूस के साथ 'शांति वार्ता' की पेशकश की   ||    भीषण गर्मी से 14 हज यात्रियों की मौत, 17 लापता   ||    ‘यह एक बहुत ही अजीब विश्व कप रहा है..’ पाकिस्तान के साथ मुकाबले से पहले आयरलैंड के कोच   ||   

जबलपुर में 11 निजी स्कूलों पर 22 लाख की पेनाल्टी, 51 पर हुई FIR, 20 लोग गिरफ्तार, जानिए पूरा मामला

Photo Source :

Posted On:Monday, May 27, 2024

मुंबई, 27 मई, (न्यूज़ हेल्पलाइन)। जबलपुर में कोर्स की किताबें, यूनिफॉर्म और अन्य शिक्षण सामग्री के नाम पर अभिभावकों से मनमानी राशि वसूलने वाले निजी स्कूलों के खिलाफ प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की है। ऐसे स्कूलों से अभिभावकों को 81.30 करोड़ रुपए की फीस वापस कराई गई है। साथ ही इन स्कूलों पर 22 लाख रुपए की पेनाल्टी भी लगाई है। प्रशासन ने 51 लोगों के खिलाफ FIR भी दर्ज की है। जिनमें स्कूलों के चेयरमैन, प्राचार्य, सीईओ, मैनेजर, सदस्य, एडवाइजर समेत 20 लोग गिरफ्तार किए गए हैं। वहीं, जबलपुर कलेक्टर दीपक सक्सेना और एसपी आदित्य प्रताप सिंह ने निजी विद्यालयों की मनमानी फीस वसूली और पुस्तक स्टेशनरी में की जा रही कमीशनखोरी की जांच के बाद लोगों से फेसबुक पर लाइव संवाद किया। दोनों ही अधिकारियों ने निजी विद्यालयों की फीस वसूली की जांच में आए तथ्यों की जानकारी दी। साथ ही कहा कि ऐसे मामलों से प्रशासन को अवगत कराएं। जिससे कार्रवाई की जा सके।

दरअसल, नया शिक्षा सत्र शुरू होने के बाद 1 अप्रैल 2024 को मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए निर्देश दिए थे। इस पर जबलपुर कलेक्टर दीपक सक्सेना ने अप्रैल 2018 से अप्रैल 2024 तक अभिभावकों से वसूली गई फीस की जांच कराई थी। जिसमें बस्तों के वजन गाइडलाइन के मुताबिक नहीं पाए गए। 11 स्कूलों की जांच में फीस, बस्ते और ड्रेस में 4.12 करोड़ रुपए की कमीशनखोरी भी उजागर हुई है। इसके बाद 51 आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। इसमें स्कूल प्रबंधन से जुड़े 30 लोग, 5 पुस्तक विक्रेता और 16 प्रकाशक से संबंधित लोग हैं। जांच में यह भी सामने आया है कि फर्जी और डुप्लीकेट पुस्तकों, नवीन पुस्तकों को पाठ्यक्रम में शामिल कराकर बस्तों का बोझ बढ़ाया गया है।


इन्दौर और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. indorevocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.